स्व० गेंदा सिंह का जीवन परिचय



गेंदा सिंह सुपुत्र श्री मदन गोपाल नारायण सिंह का जन्म दिनाँक 13 नवंबर 1908 को ग्राम दुमही पो0-बरवा राजा पाकड़ तमकुही जनपद- कुशीनगर में हुआ था|

गेंदा सिंह पूर्वी उत्तर प्रदेश के अभिभाजित देवरिया जिले के गन्ना किसानों के संघषो के सम्मान का प्रतीक है|

बहुत कम लोगो को मालूम है कि गेंदा सिंह सन 1941 में एक वर्ष तक आचार्य नरेंद्र देव जी एवं रफी मुहमद किदबई जी के साथ राजनैतिक कैदी के रूप मे जेल है|

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी गेंदा सिंह 1952 मे पहली बार सोशलिस्ट पार्टी से सेबरही के विधायक चुने गये| 1957 में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी से दुबारा विधायक चुने गये उस चुनाव में देवरिया की सभी सीटो पर पार्टी के विधायक चुने जाने पर उन्हे नेता प्रतिपक्ष बनाया गया|

वर्ष 1962 एवं 1967 में वे काँग्रेस पार्टी से विधायक चुने गये | सुख्क्जस कृपलाभी चंद्रभानु गुप्ता एवं चौधी चरण सिंह के मंत्री मण्डल में कृषि पशुपालन वन खाद्य सर्वजनिका कल्याण विभाग का दायित्व भी उन्होने निभाया |

मार्च 1967 में गेंदा सिंह कृषि एवं वन का अध्ययन करने के लिए यात्रा पर भी जर्मनी गये |

19 नवम्बर 1977 को देश ने अपना एक महान निष्ठावान एवं समर्पित प्रथम किसान नेता खो दिया|

पूर्वी उत्तर प्रदेश के पहले गन्ना किसान नेता गेंदा सिंह

उत्तर प्रदेश की पहली विधान सभा

The First Legislative Assembly of Uttar Pradesh (a.k.a. First Vidhan Sabha of Uttar Pradesh) (Hindi: पहली उत्तर प्रदेश विधान सभा) was constituted in May 1952 as a result of Indian general election, 1951–52. First Legislative Assembly had total of 431 MLAs (later revised to 426 including one nominated Anglo-Indian member).

Genda Singh from PSP party was Leader of the Opposition From 1955 To 1957, Uttar Pradesh

Achievement A Genda Singh





गेंदा सिंह गन्ना प्रजनन एवं अनुसंधान संस्थान

गेंदा सिंह गन्ना प्रजनन एवं अनुसंधान संस्थान को गेंदा सिंह विश्वविद्यालय का दर्जा दिलाने हेतु

Sign The Petition

बाबू गेंदा सिंह को दी श्रद्धांजलि